जब Tamil Culture से जुड़े दो Japanese दिल

Japanese Couple

किसी भी इंसान की जिन्दगी में शादी बेहद ही खास मौका होता है। यही वजह है कि लोगों की कोशिश होती है कि इस खास मौके को यादगार बनाया जाए, ताकि पूरी जिन्दगी इसकी छाप बनी रहे। जापान के एक जोड़े ने भी कुछ ऐसा किया कि उनकी शादी यादगार बन गई। दरअसल इस जापानी जोड़े (Japanese Couple) ने अपने घर से 6400 किलोमीटर दूर तमिलनाडु के मदुरैई में आकर Tamil Culture से शादी की।

कैसे आया विचार

The News Minute की एक खबर के अनुसार, जापान की रहने वाली 27 वर्षीय चिहारु ओबाटा जापान की एक यूनिवर्सिटी में भाषा विज्ञान (Linguistic) पर रिसर्च कर रही हैं। साल 2014 में ओबाटा जापानी और तमिल संस्कृति में समानता पर रिसर्च के लिए तमिलनाडु आयी थी। यहां आकर ओबाटा को तमिल संस्कृति से प्यार हो गया। यही वजह है कि ओबाटा ने तमिल संस्कृति में शादी करने का फैसला किया। बता दें कि ओबाटा धारा प्रवाह तमिल भाषा बोल सकती हैं।

 

हालांकि ओबाटा और उनके पति यूटो निनागा बीते साल अप्रैल में जापान में हुए एक सादे समारोह में शादी कर चुके हैं। लेकिन तमिल संस्कृति से प्यार के चलते इस जापानी जोड़े ने एक बार फिर से शादी करने का फैसला किया। इस काम में ओबाटा की मदद मदुरैई की रहने वाली वी. विनोदिनी और उनके पति वेंकटेश ने की। बता दें कि वी. विनोदिनी जापान के क्योटो में रहकर वहां की एक यूनिवर्सिटी में तमिल पढ़ाती हैं। वी. विनोदिनी और उनके पति ने ही जापानी जोड़े की शादी का पूरा इंतजाम किया।

यूटो निनागा

 

तमिल रीति-रिवाज से हुई शादी

चिहारु ओबाटा और यूटो निनागा ने 31 दिसंबर को पूरे तमिल विधि-विधान से मदुरैई के एक मंदिर में शादी रचाई। शादी के दौरान ‘सतपथी’ (सात फेरे) ‘कन्यादानम्’ (कन्यादान) जैसी परंपराएं भी निभायी गई। यहां तक कि जापानी जोड़े की शादी का कार्ड भी तमिल भाषा में ही प्रिंट कराया गया था। शादी के दौरान चिहारु ओबाटा और यूटो निनागा के परिवार वाले भी मौजूद थे। इस दौरान सभी मेहमानों ने भी पारंपरिक कपड़े पहने, जिससे इस शादी को बेहद ही यादगार बना दिया।

शादी के बाद मीडिया से बात करते हुए चिहारु ओबाटा ने कहा कि “वह तमिल संस्कृति को बेहद पसंद करती हैं और उन्हें खुशी है कि उनकी शादी तमिल रीति-रिवाज से संपन्न हुई।”

HTML Snippets Powered By : XYZScripts.com
error: Content is protected !!