Thu. Jun 4th, 2020

वास्तु शास्त्र – बरामदा, बॉलकनी, टेरेस, दरवाजा तथा मण्डप

अंक एवं यंत्र वास्तु शास्त्र

वास्तु शास्त्र में मकान के निर्माण के दो भाग दिए हैं। वायव्य से आग्नेय के कर्ण से ईशान तक का त्रिभुजाकार क्षेत्र सूर्य तथा कर्ण से नैऋत्य तक का त्रिभुजाकार क्षेत्र चन्द्र क्षेत्र कहलाता है। चन्द्र क्षेत्र में सूर्य क्षेत्र के निर्माण से अधिक निर्माण व अधिक भार होना चाहिए । बरामदा बनवाने से निर्माण हल्का होता है। इसलिए बरामदे का निर्माण हमेशा ईशान कोण में करना चाहिए तथा बरामदे के लिए पूर्व व उत्तर दिशाए भी शुभ रहती है। बरामदे के स्तम्भ हमेशा गोल होने चाहिए।

वृहत्संहिता में बरामदा बनाने के निर्देश दिए गए हैं कि मकान के फ्लोर एरिया के बाहर कमरों की चौड़ाई या लम्बाई के एक तिहाई चौडाई की बरामदा या गैलरी बनानी चाहिए। वृहत्संहिता के अनुसार बरामदा मकान में चारों भागों में कहीं भी हो सकता है।

बॉलकनी हमेशा उत्तर व पूर्व की ओर बनवानी चाहिए। यदि पश्चिम व दक्षिण की ओर बॉलकनी हो तब पूर्व व उत्तर की ओर की बॉलकनी अधिक बड़ी होनी चाहिए जिससे उत्तर व पूर्व की दिशाओं का ज्यादा से ज्यादा लाभ प्राप्त हो सके।

टैरेस भी हमेशा ईशान कोण की ओर बनवाया जाना चाहिए।  इसके अलावा टेरेस को पूर्व व उत्तर में भी बनवाया जा सकता है। इसकी ऊंचाई हमेशा मकान की ऊंचाई से कम रखनी चाहिए।

द्वार मण्डल भी टैरेस की तरह मकान की ऊंचाई से कम होना चाहिए। इसे उत्तरी ईशान व पूर्वी ईशान पर रखना चाहिए। द्वार मण्डप के बाहर स्तम्भ गोल बनवाने चाहिए।

पोर्टिको को ईशान कोण में बनवाना चाहिए यह वास्तुशास्त्र के अनुसार शुभ माना जाता है। पोर्टिको की ऊंचाई हमेशा मकान की ऊंचाई से कम रखनी चाहिए। यह वाहनों को धूप व बरसात से बचाव के लिए बनवाया जाता है। टैरेस व पोर्टिको एक ही संरचना है लेकिन अलग-अलग भी बनवाएं जा सकते हैं।

वास्तु शास्त्र की सम्पूर्ण जानकारियां

  1. जीवन और वास्तुशास्त्र का संबंध
  2. जाने घर का सम्पूर्ण वास्तु शास्त्र
  3. घर, ऑफिस, धन, शिक्षा, स्वास्थ्य, संबंध और शादी के लिए वास्तु शास्त्र टिप्स
  4. वास्तु शास्त्र के आधारभूत नियम
  5. वास्तु शास्त्र के प्रमुख सिद्धान्त
  6. अंक एवं यंत्र वास्तु शास्त्र
  7. विभिन्न स्थान हेतु वास्तु शास्त्र के नियम एवं निदान
  8. वास्तु का व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव
  9. हिन्दू पंचांग अथार्त हिन्दू कैलेंडर क्या है?
  10. युग तथा वैदिक धर्म
  11. भारतीय ज्योतिष शास्त्र
  12. भवनों के लिए वास्तुकला

(This content has been written by Super Thirty India Group)

मकान और भवनों के लिए वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra for Home)

  1. भवनों के लिए वास्तुकला
  2. वास्तु सिद्धांत – भवन निर्माण में वास्तुशास्त्र का प्रयोग
  3. वास्तु शास्त्र के अनुसार घर कैसा बनना चाहिए
  4. जमीन की गुणवत्ता और उसकी जानकारी
  5. विभिन्न प्रकार की भूमि पर मकानों का निर्माण करवाना – Vastu Tips
  6. घर की सजावट – सरल वास्तु शास्त्र
  7. मकान के वास्तु टिप्स – मकान के अंदर वनस्पति वास्तुशास्त्र
  8. मकान बनाने के लिए रंगों का क्या महत्व है?
  9. रसोईघर वास्तुशास्त्र – भोजन का कमरा
  10. वास्तु अनुसार स्नानघर
  11. वास्तु शास्त्र के अनुसार बच्चों का कमरा
  12. औद्योगिक इकाई – इंडस्ट्रियल एरिया

👉 Suvichar in Hindi and English

प्लॉट, फ्लैट और घर खरीदें आसान किस्तों पर

दिल्ली, फरीदाबाद और नोएडा में यदि आप प्लॉट (जमीन) या फ्लैट लेना चाहते हैं तो नीचे दी गई बटन पर क्लिक कीजिये। आपको सही वास्तु शास्त्र के अनुकूल जमीन (प्लॉट) व फ्लैट मिलेगी। प्लोट देखने के लिए हमसे सम्पर्क करें, आने जाने के लिए सुविधा फ्री है। जब आपकों देखना हो उस समय हमारी गाड़ी आपको आपके स्थान से ले जायेगी और वहीं पर लाकर छोडे़गी। धन्यवाद! Buy Plots, Flats and Home on Easy Installments
HTML Snippets Powered By : XYZScripts.com
error: Content is protected !!