Super Thirty India: Education, Job, Business and Super 30 News

SuperThirty.com: Super30 is a portal from where you can get FreeJobAlerts, Education, Business, Direct Selling, Health and Super 30 News.

वास्तु शास्त्र | Vastu Shastra in Hindi

वास्तु शास्त्र

वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) क्या है, इसके बारे में मालवा के बहुत ही जाने माने शासक महाराजा भोज परमार ने ग्यारहवीं शताब्दी में खुद के द्वारा रचा गया ग्रंथ समरांगण सूत्रधार के पहले भाग के पांचवें श्लोक में कहा गया है किः-

वास्तुशास्त्रादूते तस्य न स्याल्लः क्षणनिश्चयः।

तस्माल्लोकस्य कृपयाः शास्त्रमतेदुदीर्यते।।

इस श्लोक का यह मतलब है कि वास्तु शास्त्र के नियमों के अलावा अन्य कोई प्रकार नहीं है, जिससे के बारे में यह निश्चित किया जा सके कि कोई भी मकान सही बना हुआ है या नहीं बना हुआ है…Read More>>

Vastu Shastra भारत का वह प्राचीन विज्ञान है जिसकी मदद से हम हमारे आस पास की नकारात्मक ऊर्जाओं को सकारात्मक ऊर्जा में बदलने का कार्य किया जाता है। संतुलित और सुखी जीवन के लिए वास्तुशास्त्र के बारे में जानना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि हम लोग अनजाने में बहुत से ऐसा कार्य करते हैं जो वास्तु के विपरित होता है जिसका खम्याजा हम लोगों को भुगतना पड़ाता है। Vastu Shastra के ज्ञान के लिए यहां पर हम Vastu Kala की जानाकरियां हिंदी (vastu shastra in Hindi) में दे रहे हैं ताकि आपको समझने में असानी हो।

एक व्यक्ति अपना अधिकांश जीवन एक भवन या घर अंदर व्यतित करता है इसलिये भवन या घर vastu के अनुसार बना होना बहुत ही आवश्यक है। यदि वास्तु के अनुसार आपका घर या भवन या फिर कार्यालय बना है तो आपको हर वक्त उसमें सुख और स्मृधि मिलती है।

विज्ञान की दृष्टि से दखा जाये तो ब्रह्मांड की सभी चीजों में ऊर्जा पाया जाता है और उससे जुड़ी हुई ऊर्जा को काबू में रखने के लिए Vastu Shastra से अच्छा हथियार नहीं हो सकता है।

मनुष्य के जीवन को नियंत्रित करने में कई कारक अपनी मुख्य भूमिका निभाते हैं उसमें से भाग्य, कर्म और स्थान मुख्य है। किसी व्यक्ति के कर्म और भाग्य के अनुसार ही उसको जीवन में लाभ मिलता है। लेकिन यदि उसके जीवन में वास्तु दोष होता है तो उसका कर्म और भाग्य दोनों उसी के अनुसार बदल जाता है। इसलिये वास्तु जीवन की गुणवत्ता को पहचानना बहुत ही जरूरी है। वास्तु शास्त्र के बारे में हर प्रकार की जानकारियां नीचे दी जा रही है उसे ध्यानपूर्क पढ़िये और अपने वास्तु को अपने अनुसार कर लीजियें।

वास्तु शास्त्र के बारे में जानकारियां

(Wastu Sastra information in Hindi)

वास्तुशास्त्र और उसकी जानकारियां (Information about Vastu Shastra)

  1. वास्तु शास्त्र क्या है?
  2. वास्तु का इतिहास
  3. वास्तु का परिचय
  4. वास्तु का साहित्य
  5. सरल वास्तु शास्त्र
  6. वैदिक वास्तुशास्त्र
  7. वास्तुशास्त्र का विज्ञान से संबंध
  8. वास्तुशास्त्र के प्रमुख सिद्धान्त
  9. वास्तुशास्त्र के आधारभूत नियम
  10. वास्तुशास्त्र के सम्पूर्ण नियम और जानकारियां

मकान और भवनों के लिए वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra for Home)

  1. भवनों के लिए वास्तुकला
  2. वास्तु सिद्धांत – भवन निर्माण में वास्तुशास्त्र का प्रयोग
  3. वास्तु शास्त्र के अनुसार घर कैसा बनना चाहिए
  4. जमीन की गुणवत्ता और उसकी जानकारी
  5. विभिन्न प्रकार की भूमि पर मकानों का निर्माण करवाना – Vastu Tips
  6. घर की सजावट – सरल वास्तु शास्त्र
  7. मकान के वास्तु टिप्स – मकान के अंदर वनस्पति वास्तुशास्त्र
  8. मकान बनाने के लिए रंगों का क्या महत्व है?
  9. रसोईघर वास्तुशास्त्र – भोजन का कमरा
  10. वास्तु अनुसार स्नानघर
  11. वास्तुशास्त्र – बरामदा, बॉलकनी, टेरेस, दरवाजा तथा मण्डप
  12. वास्तुशास्त्र के अनुसार बच्चों का कमरा
  13. औद्योगिक इकाई – इंडस्ट्रियल एरिया

घर के लिए वास्तु टिप्स (Vastu Tips)

  1. जड़ी बूटी से वास्तु दोष को दूर करना
  2. ज्योतिष तंत्र के द्वारा वास्तुदोष का उपाय
  3. वास्तु दोष निवारण के उपाय
  4. वास्तु दोष निवारण
  5. वास्तु दोष को दूर करने के उपाय और वास्तु पुजा
  6. अनिष्ट ग्रहों की शांति के लिए वास्तु टिप्स
  7. कैसे दूर करें, जमीन वास्तु दोष
  8. घर, ऑफिस, धन, शिक्षा, स्वास्थ्य, संबंध और शादी के लिए वास्तु शास्त्र टिप्स
  9. जाने घर का सम्पूर्ण वास्तु, वास्तुशास्त्र ज्ञान और टिप्स
  10. मकान को बनाने के लिए वास्तु टिप्स और सुझाव
  11. विभिन्न स्थान हेतु वास्तु शास्त्र के नियम एवं निदान

वास्तुशास्त्र और धर्मशास्त्र (Vastu Shastra and Theology)

  1. भारतीय ज्योतिष शास्त्र
  2. भारतीय रीति-रिवाज तथा धर्मशास्त्र
  3. प्राचीन भारत की धर्मनिरपेक्ष वास्तुकला
  4. वेद तथा हिन्दू शब्द की स्तुति
  5. हिन्दू पंचांग अथार्त हिन्दू कैलेंडर क्या है?
  6. युग तथा वैदिक धर्म
  7. प्राकृतिक वस्तु
  8. वास्तु तथा पंचतत्व
  9. अंक एवं यंत्र वास्तु शास्त्र
  10. जन्मपत्री से जानिये जनम कुन्डली का ज्ञान

वास्तुशास्त्र और उसकी अन्य जानकारियां (Vastu Shastra and its other information)

  1. जीवन और वास्तुशास्त्र का संबंध
  2. वास्तु का व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव
  3. व्यावसायिक सफलता के लिए वास्तु शास्त्र
  4. घरेलू उद्योग व औद्योगिक संरचनाएं समाज की उन्नति के लिये क्यों आवश्यक है?
  5. वास्तु पुरुष की उत्पत्ति तथा उसका सत्कार
  6. वास्तु पुरुष की विशेषताएं
HTML Snippets Powered By : XYZScripts.com
error: Content is protected !!